BLOG DESIGNED BYअरुन शर्मा 'अनन्त'

बुधवार, 26 नवंबर 2014

धुंध के मोती

सोयी कलियाँ
सुख भरी निंदिया
धुंध रजाई

रोई जो दूब
आँसू  पोछने आई
स्नेहिल धूप


धुंध के मोती
हरे दुशाला टाँके
ओढ़े धरती

खड़े हैं ठूँठ
सर्द हवा झेलते
वसंत आस


calling at door
sun disappear
foggyday

मंजिलें वही
कुहासे में खो गए /कुहासे ने निगले
डगर सभी