BLOG DESIGNED BYअरुन शर्मा 'अनन्त'

शुक्रवार, 14 नवंबर 2014

मासूम किलकारी


खेल खिलौने 
मासूम किलकारी
खोये पोथी में


रोती गुड़िया 
किताबो में खो गयी
नन्ही परियाँ


थोड़ी सी धूप 
थोड़ी स्नेह की वर्षा 
खिले पुहुप


नन्हा परिंदा 
हौसलों की उड़ान 
नभ सिमटा

 रखना छाँव सूख न जाये पौधे 
कड़ी है धूप


नन्हे पादप 
बनेगे कल वृक्ष 
स्नेह से सींच