BLOG DESIGNED BYअरुन शर्मा 'अनन्त'

गुरुवार, 14 अगस्त 2014

पुकारे जो तिरंगा


जो है जैसा है
भारत महान है
मुझे प्यार है

रग रग में
जयहिंद  का नारा
घर घर में

गर्वित मन
लहराया तिरंगा
करें नमन

दुश्मन अड़ा
दिवाने चल अब
थाम तिरंगा

मन से गाँधी
पुकारे जो तिरंगा
बनते आँधी

सने माटी से
हीरक मुक्ति रत्न
माँ के अंक में