BLOG DESIGNED BYअरुन शर्मा 'अनन्त'

शुक्रवार, 27 दिसंबर 2013

बटोही साल




फिर मिलेंगे 
देता गया दिलासा 
गुजरा साल 

बटोही साल 
छोड़ गया पोटली 
यादो से भरी

ओस की बुँदे 
खिड़की से फिसली 
चमका रवि 

dew drops 
sliding from glass windows 
sun shine




बदले रंग
मनुष्य वक्त ऋतू
रंग है स्थिर

शीतल छांव
धुप का महादान
गर्वित तरु

श्रम के बीज
खिलाएंगे सुमन
माली की आस