BLOG DESIGNED BYअरुन शर्मा 'अनन्त'

शनिवार, 27 जुलाई 2013

हँसे सुमन



प्रदीप चौबे जी की रचना से प्रेरित हाइकु …. 

पसीना सींचे 
हुजूम के हुजूम 
फूल है उगे  | 

हँसे सुमन 
बहारों की साजिश 
लूटा चमन | 

लौटा सावन 
लौटेंगी बहारे भी 
संग साजन /उम्मीदें हरी | 

रुकी कलम 
तड्पी रोशनाई 
घुटता दम  | 

21 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत बढ़िया...
    सादर/सप्रेम
    सारिका मुकेश

    उत्तर देंहटाएं
  2. उत्तर
    1. स्नेहपूर्ण प्रतिक्रिया हेतु हार्दिक आभार आदरणीय @ताऊ रामपुरिया जी .... :) जय श्री कृष्ण

      हटाएं
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि का लिंक आज रविवार (28-07-2013) को त्वरित चर्चा डबल मज़ा चर्चा मंच पर भी है!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. चर्चा में मेरी रचना शामिल कर के मुझे सम्मानित करने का हार्दिक आभार आदरणीय @रूपचंद्र जी .... :)
      सादर नमन

      हटाएं
  4. उत्तर
    1. सराहना के लिए तहेदिल दे शुक्रिया @asha joglekar ji :)

      हटाएं
  5. सुनीता जी बेहद सुन्दर हाइकू हैं दिल को छू गए बहुत बहुत बधाई स्वीकारें

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. @अरुण शर्मा जी .... आपका भी बहुत बहुत शुक्रिया अपने मेरी बहुत सहायता की जिसके लिए आभारी हु सदैव :)

      हटाएं
  6. Wow! Ye kab banaya.....! Meri taraf se haardik shubhkaamnaayen.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. @राहुल ... shukriyaa भाई सब तुम दोस्तों के स्नेह और सम्मान का असर है ... :) युही स्नेह बनाये रखना :)

      हटाएं
  7. बहुत सुन्दर और सार्थक हाइकु....

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर नेह
    सभी हाइकू बढ़िया हैं

    उत्तर देंहटाएं