BLOG DESIGNED BYअरुन शर्मा 'अनन्त'

मंगलवार, 13 जनवरी 2015

हिंदी चेतना पत्रिका में प्रकाशित कुछ हाइकु


हिंदी चेतना पत्रिका में प्रकाशित कुछ हाइकु
रामेश्वर काम्बोज भैया जी को हार्दिक आभार जिन्होंने इसे इस पत्रिका में स्थान दे कर मेरा मनो बल बढ़ाया ।
ऑनलाइन नीचे दिए गए लिंक पर पढ़ी जा सकती है ये पुस्तक
http://www.vibhom.com/hindichetna.html

चहकी भोर
गूंज उठी दिशायें
सन्नाटे रूठे


चल रे मना
छँट जायेगा शीघ्र
कोहरा घना

उधड़े  रिश्ते
जतन  से सिलती
जोड़ दिखते

जीवित रिश्ते
लड़ते झगड़ते
मुर्दा न बोले 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                       रोती  गुड़िया
किताबो में खो गयी    
नन्हीं परियां